फीफा में दस नंबरी का दम

0
142

आखिर क्या खास है इस दस नंबर की जर्सी में? दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी दस नंबर की जर्सी पहन कर खेलना पसंद करते हैं। वर्तमान समय में दुनिया के सबसे दिग्गज खिलाड़ी माने जाने वाले लियोनेल मेसी दस नंबर की जर्सी पहनते हैं।

अमित शर्मा/पत्रकार

गुरुवार की देर रात खत्म हुए अर्जेंटीना और क्रोएशिया के बीच हुए मैच के नतीजे ने सबको चौंका दिया अर्जेंटीना जैसी मजबूत टीम को क्रोएशिया ने 3-0 से शिकस्त दे दी. इस मैच में सबकी नजरें दस नंबर की जर्सी पहनने वाले अर्जेंटीना के कप्तान लियोनेल मेसी पर टिकी थी लेकिन लोगों का दिल जीता क्रोएशिया के कप्तान ल्यूका मॉड्रिक ने. मॉड्रिक ने अपनी टीम के लिए शानदार गोल किया. मॉड्रिक भी दस नंबर की जर्सी ही पहन कर खेलते हैं

आखिर क्या खास है इस दस नंबर की जर्सी में? दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी दस नंबर की जर्सी पहन कर खेलना पसंद करते हैं वर्तमान समय में दुनिया के सबसे दिग्गज खिलाड़ी माने जाने वाले लियोनेल मेसी दस नंबर की जर्सी पहनते हैं. उनके ऊपर अपनी टीम अर्जेंटीना को कप जिताने की जिम्मेदारी है ब्राजील की टीम भी नेमार जैसे खिलाड़ी के नेतृत्व में छठीं बार कप जीतने का सपना लेकर आयी है. दुनिया के बेहतरीन खिलाड़ियों में शुमार नेमार भी दस नंबर की जर्सी में ही खेलते हैं. दस नंबर की जर्सी पहनना शान और प्रतिष्ठा की बात समझी जाती है. आमतौर पर टीमें अपने सबसे बेहतरीन खिलाड़ी को ही दस नंबर की जर्सी देती हैं

आपको याद ही होगा कि भारत में क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर भी दस नंबर की जर्सी ही पहनते थे हमारे देश में इस नंबर को खास पहचान देने वाले तेंदुलकर ही हैं भारत में दस नंबर की जर्सी और सचिन तेंदुलकर का नाम आपस में घुलमिल सा गया है तेंदुलकर पहले 99 नंबर की जर्सी पहन कर खेलते थे. फिर बाद में उन्होंने 10 नंबर को अपनाया इसके पीछे दो कारण होंगे. पहला, दस नंबर की जर्सी से जुड़ी विरासत और दूसरा, शायद ये कि तेंदुलकर के नाम को अंग्रेजी में लिखते समय टेन शब्द आता है 1999 में आईसीसी वर्ल्ड कप में तेंदुलकर ने पहली बार दस नंबर की जर्सी पहनी थी उसके बाद तो फिर रिकॉर्ड टूटते गए और दस नंबर की जर्सी की प्रतिष्ठा दुनिया भर में और बढ़ती गयी

तेंदुलकर ने नवंबर 2013 में क्रिकेट से संन्यास ले लिया तेंदुलकर के बाद दस नंबर की जर्सी भारत में सिर्फ एक बार एक ही खिलाड़ी ने पहनी ये खिलाड़ी थे मुम्बई के पेसर शार्दूल ठाकुर ठाकुर ने अगस्त’2017 में कोलंबो में श्रीलंका के खिलाफ अपना पहला एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था इस मैच में वो दस नंबर की जर्सी पहन कर खेलने उतरे लेकिन इसके बाद उन्हें सोशल मीडिया पर इतना ट्रॉल किया गया कि उन्हें दस नंबर की जर्सी पहनने पर सफाई देनी पड़ी सोशल मीडिया पर उनकी तेंदुलकर से तुलना को लेकर खूब किरकिरी हुई बाद में ठाकुर ने कहा कि सिर्फ न्यूमरोलॉजिकल कारणों से उन्होंने दस नंबर की जर्सी चुनी थी हालांकि इसके बाद ठाकुर ने इस नंबर को छोड़ दिया बाद में जब वो न्यूजीलैंड के खिलाफ खेलने उतरे तो उन्होंने 54 नंबर की जर्सी पहनी थी

यानि दस नंबर की जर्सी का प्रभाव इतना ज्यादा है तेंदुलकर के रिटायर होने के बाद उनकी आईपीएल टीम मुम्बई इंडियन ने उनको सम्मान देते हुए दस नंबर की जर्सी को भी रिटायर कर दिया मुम्बई इंडियन में अब किसी भी खिलाड़ी को दस नंबर की जर्सी नहीं मिलती बीसीसीआई ने भी अब एकतरह से अऩाधिकारिक तौर पर दस नंबर की जर्सी को रिटायर कर ही दिया है टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने तेंदुलकर को सम्मान देते हुए दस नंबर की जर्सी पहनने से इंकार कर दिया है

तेंदुलकर के अलावा पाकिस्तान के धुरंधर खिलाड़ी शाहिद आफरीदी भी दस नंबर की जर्सी पहन कर ही खेलते थे

लेकिन आखिर दस नंबर की जर्सी इतनी महत्वपूर्ण क्यों मानी जाती है इसके साथ शान और प्रतिष्ठा की इतनी लंबी विरासत आखिर कैसे जुड़ गयी? आखिर कब ये नंबर हर खिलाड़ी का सपना बन गया?

दस नंबर की जर्सी से जुड़े हर सवाल का जवाब फुटबॉल के मैदान से निकलता है. इस नंबर की जर्सी को पहली बार ऊंचाईयों पर पहुंचाने वाले खिलाड़ी है फुटबॉल के भगवान कहे जाने वाले – पेले

साल था 1958. एक 17 साल का दुबला-पतला सा लड़का ब्राजील की टीम में अपनी पहचान बनाने को जी-जान से लगा हुआ था 1958 के फीफा वर्ल्ड कप में उसे प्रमुख स्ट्राइकर वावा के साथ खेलने का मौका मिला इसके बाद जो हुआ वो इतिहास बन गया. पेले ने 1958 वर्ल्ड कप में पांच सबसे महत्वपूर्ण गोल किए. वर्ल्ड कप फाइनल में भी पेले ने एक जोरदार गोल दागा था 1958 वर्ल्ड कप में पेले की जर्सी का नंबर दस था और इसके बाद से ये नंबर उनके ही पास रहा

1958 वर्ल्ड कप में पेले को दस नंबर की जर्सी मिलने के पीछे भी कारण था. इस वर्ल्ड कप में ब्राजील की टीम 4-2-4 की पोजीशन की साथ खेली थी यानि 4 डिफेंडर, 2 मिडफील्डर, 4 स्टाईकर पेले जिस पोजीशन पर खेलते थे वो दसवें नंबर पर आती थी. गोलकीपर को 1 नंबर की जर्सी दी गयी और इसी क्रम से बढ़ते हुए पेले को जो जर्सी मिली उसका नंबर दस था इस तरह संयोग से मिला नंबर आने वाले दिनों में फुटबाल के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण नंबर बन गया.

पेले ने ही दस नंबर की जर्सी को पहचान दी 1958 के बाद 1962 और फिर 1970 में भी पेले के शानदार खेल की वजह से ब्राजील फीफा वर्ल्ड कप चैंपियन बना इस दौरान पेले का नाम दुनिया भर में फैल गया पेले की शोहरत का आलम ये है कि फुटबॉल के बारे में कुछ भी नहीं जानने वाले लोग भी पेले का नाम जरुर जानते हैं

पेले के बाद कई दिग्गजों ने दस नंबर की जर्सी ही पहनना पसंद किया धीरे-धीरे कुछ ऐसा माना जाने लगा कि टीम का सबसे अच्छा खिलाड़ी ही दस नंबर की जर्सी का हकदार है दस नंबर की जर्सी को और प्रतिष्ठा दी करिश्माई खिलाड़ी डिएगो माराडोना ने माराडोना की कप्तानी में अर्जेंटीना ने पश्चिम जर्मनी को हराकर 1986 का फीफा वर्ल्ड कप जीता सेमीफाइनल में बेल्जियम के खिलाफ किए गए माराडोना के दो गोल आज भी लोगों को याद हैं. माराडोना को गोल्डन बॉल का अवार्ड भी मिला। इसके बाद तो दस नंबर की जर्सी की शान और इज्जत बढ़ती ही गयी

इटली के दिग्गज रॉबर्टों बैजियो ने दस नंबर की जर्सी ही पहनी वे 1990, 1994, 1998 के तीन वर्ल्ड कप में लगातार खेले हालांकि वो इटली को कप नहीं दिला पाए लेकिन वो वर्ल्ड कप में इटली के लिए सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी है

फ्रांस के महान खिलाड़ी जिनेदिन जिदान भी दस नंबर की जर्सी पहन कर ही खेलते थे. 1998 में जिदान के दो गोलों की वजह से ही फ्रांस ने ब्राजील को हराकर वर्ल्ड कप पर अपना कब्जा जमाया

ब्राजील के रोनाल्डिन्हो का भी अपने दौर में जलवा रहा उनके शानदार खेल से ब्राजील 2002 में वर्ल्ड कप चैंपियन बना था

यानि दस नंबरी के इस कारनामे में महान खिलाड़ियों की वो मेहनत और प्रतिभा छिपी हुई है जिसने इस नंबर को करिश्माई पहचान दे दी है हालांकि इस वर्ल्ड कप में दस नंबर की जर्सी पहनने वाले सबसे प्रमुख खिलाड़ी मेसी अब तक सफल नहीं हो पाए हैं नेमार भी अपनी फिटनेस को लेकर परेशान है लेकिन क्या पता कि इनका जादू कब चल जाए? या फिर कोई नया दस नंबरी इस बार सबको दस का दम दिखा दे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here