#MeToo विवाद के बीच सुषमा से मिलेंगे एमजे अकबर

0
62

एमजे अकबर मोदी सरकार में विदेश राज्य मंत्री हैं और रविवार सुबह ही नाइजीरिया दौरे से देश लौटे, सूत्रों ने बताया कि इस्तीफा भेजने के साथ ही उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा से मिलने का समय भी मांगा है

नई दिल्ली: #MeToo खुलासे के तहत केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर आरोपों की बमबारी हो रही है। अब तक लगभग 10 महिलाएं केन्द्रीय मंत्री पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगा चुकी हैं। दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर उन्होंने पत्रकारों से कहा कि वे अपने ऊपर लगे आरोपों पर बाद में बयान जारी करेंगे। तकरीबन रोजाना हो रहे नये खुलासों से उन पर केन्द्रीय मंत्री की कुर्सी को छोड़ने का जबर्दस्त दबाव है।
#Metoo के तहत यौन शोषण के आरोपों का सामना कर रहे केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के इस्तीफा देने की खबर है। अकबर ने ईमेल के जरिए अपना इस्तीफा भेजा है। अकबर मोदी सरकार में विदेश राज्य मंत्री हैं और रविवार सुबह ही नाइजीरिया दौरे से देश लौटे हैं। इस्तीफा भेजने के साथ ही उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलने का समय भी मांगा है।
बता दें कि एमजे के खिलाफ लगभग 10 महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। इसके बाद उनपर इस्तीफे का दबाव बढ़ गया था। भारत लौटते ही जब पत्रकारों ने अकबर से इस बारे में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि वह आरोपों पर बाद में जवाब देंगे। विदेश यात्रा पर गए केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री ने अभी तक खुद पर लगे आरोपों पर कोई जवाब नहीं दिया है।
 
भारतीय जनता पार्टी ने इस मामले में अब तक पर चुप्पी साध रखी है। पार्टी के सूत्रों का कहना है कि उनके खिलाफ आरोप गंभीर हैं ऐसे में वो आगे मंत्री पद पर काबिज रहेंगे या नहीं इसपर अभी संशय है। उन्होंने कहा कि इस मामले पर अंतिम फैसला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लेंगे। वहीं रविवार को नागपुर में जब पत्रकारों ने परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से इस संबंध में सवाल पूछा तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।
 
बता दें कि महिलाओं पर यौन शोषण के खिलाफ शुरू हुए #MeToo कैंपेन के तहत सामने आ रहे मामलों की जन सुनवाई के लिए बहुत जल्द कमिटी गठित की जाएगी। महिला व बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रिटायर्ड जजों की चार सदस्यीय कमिटी इन सभी मामलों की सुनवाई करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here