स्कूल बच्चों को स्कूल में सुरक्षित माहौल दें: अजय राय

0
69

आरटीई एक्ट के तहत कुछ बातें हम आपके समक्ष रखना चाहते हैं। क्या प्री प्राइमरी को आरटीई एक्ट में शामिल किया गया है ? बहुत सारे विद्यालय इस बात की घोषणा ही नहीं करते। इस संदर्भ में आरटीआई एक्ट के लाभ कों को सरकार, सरकारी सिस्टम और विद्यालय के बीच छोड़ दिया जाता है और अभिवंचित वर्ग के बच्चे वंचित रह जाते हैं।

रांची 25 नवम्बर: झारखण्ड अभिभावक मंच की एक बैठक अध्यक्ष अजय राय की अध्यक्षता में कांके रोड में हुई। इस अवसर पर उपस्थित अभिभावकों ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से प्राइवेट स्कूल की शुल्क बढ़ोतरी को लेकर नियंत्रित करने केे लिए फी रेगुलेशन एंड कंट्रोल एक्ट विधानसभा से पास होने के बाद विधि विभाग द्वारा नोटिफाई के उपरांत अब वजूद में आ गया है। अब जरुरत है कि उसे मुस्तैदी से लागू कराये जाने को लेकर सरकार की सक्रियता की ताकि नए सत्र से इसे लागू कराया जा सके। साथ ही बैठक में यह मांग भी उठी की शिक्षा के अधिकार अधिनियम 2009 के तहत 25% एडमिशन समाज के अभिवंचित वर्ग के लोगों के बच्चों को करना सुनिश्चित करवाना सरकार की जिम्मेदारी है लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है। आरटीई एक्ट के तहत कुछ बातें हम आपके समक्ष रखना चाहते हैं। क्या प्री प्राइमरी को आरटीई एक्ट में शामिल किया गया है ? बहुत सारे विद्यालय इस बात की घोषणा नहीं करते। इस संदर्भ में आरटीआई एक्ट के लाभ को सरकार, सरकारी सिस्टम और विद्यालय के बीच छोड़ दिया जाता है और कमजोर वर्ग के बच्चे वंचित रह जाते है।

अल्पसंख्यक श्रेणी की संस्था अपने स्पेशल स्टेटस को भुना रही है और वह खुलेआम आरटीई एक्ट का उल्लंघन करती है। इनकी देखरेख करने वाला कोई भी अधिकारी नहीं है और ना ही इन्हें यह जो विशेष स्टेटस दिया गया है। उसके तहत यह काम करती हैं। आरटीआई एक्ट के तहत आने वाले स्कूलों का सर्वे नहीं हुआ है जिसे नियमित किया जाना चाहिए और उसकी खामियों को दूर किया जाना चाहिए। आर्थिक एवं सामाजिक दृष्टिकोण से कमजोर वर्ग के बच्चों की सुविधा वैसे बच्चों को मिल रही हैं जिनके अभिभावक गलत तरीके से BPL या इस तरह के दस्तावेज तैयार करके कागजी कार्यवाही कर लेते हैं जो गैरकानूनी है।

बच्चो के सुरक्षा को लेकर भी अभिभावक कुछ सवाल उठाए जिसके तहत … जो स्कूल सीबीएसई /आईसीएसई से मान्यता प्राप्त है, सीबीएसई के द्वारा जारी किए गए सुरक्षा से संबंधित सर्कुलर का ज्यादातर जगह अनुपालन नहीं हो रहा है उक्त सर्कुलर को पढ़कर यह प्रश्न आए जो सोचनीय है , यह सारे सर्कुलर सीबीएसई की वेबसाइट पर उपलब्ध है जिसे कोई भी जाकर पढ़ सकता हैं।
कुछ निम्नलिखित प्रश्न है जो पैरंट्स मीटिंग में स्कूल मैनेजमेंट और टीचरों से जरूर पूछे जाने चाहिए.
1. स्कूल के द्वारा सभी संवेदनशील जगहों पर सीसीटीवी कैमरा लगाए गए हैं और क्या वह 24 घंटे काम करते हैं.
2. स्कूल के द्वारा क्या इन सीसीटीवी कैमरों की मॉनिटरिंग की जाती है.
3. क्या स्कूल में काम करने वाले कर्मचारियों का जैसे कि ड्राइवर कंडक्टर गार्ड आया इत्यादि का पुलिस वेरिफिकेशन कराया गया है
4. क्या स्कूल में काम करने वाला सपोर्टिंग स्टाफ किसी ऑथराइज्ड एजेंसी से हायर किया गया है
5 . क्या अभिभावक टीचर और स्टूडेंट की ऐसी कोई कमेटी का गठन किया गया है जो कि बच्चों की सुरक्षा के बारे में चिंता करती हो
6 . क्या कभी विद्यार्थी और अभिभावकों से बच्चों की सुरक्षा के बारे में कोई फीडबैक लिया गया है
7 . स्कूल में आने जाने वाले लोगों को मॉनिटर किया जाता है
8 . क्या स्कूल में काम करने वाले कर्मचारियों को इस बात की ट्रेनिंग दी गई है कि कैसे वह बच्चों की रक्षा करें हर प्रकार की स्थिति में.
9 . स्कूल ने इंटरनल कंप्लेंट्स कमिटी ऑल सेक्सुअल हैरेसमेंट का गठन किया है, अगर गठन किया है तो उसके बारे में स्कूल में, स्कूल की वेबसाइट पर उसका उल्लेख क्यों नहीं किया गया है 
 
इस अवसर पर अजय राय ने कहा की ज्यादातर स्कूल प्रशासन इस गंभीर मुद्दे पर संवेदहीन बने हुए है , हम फीस के रूप में जो इतना पैसा स्कूल में देते हैं उसके बदले में स्कूल की यह जिम्मेदारी है कि वह हमारे बच्चों को स्कूल के अंदर सुरक्षित माहौल प्रदान करें. ! उन्होंने कहा की अगर आपको लगता है कि पुलिस और सरकार हमारे बच्चों को सुरक्षा प्रदान करेगी तो आपको गलत लगता है, पुलिस और सरकार तो बाद में आती है सबसे पहले हमें ही अपने बच्चों की सुरक्षा का इंतजाम करना पड़ेगा, सरकारे तो आती जाती रहती है और हम अपने बच्चों को सरकार के भरोसे नहीं छोड़ सकते. जब तक हम स्कूल प्रशासन से प्रश्न नहीं पूछेंगे तब तक वह ऐसे ही कुंभकरण की नींद सोते रहेगी.इस लिए हमारी सक्रियता जरुरी है। बैठक की जानकारी देते हुए सचिव प्रवक्ता संजय सराफ ने बताया की शीघ्र ही अभीभावक मंच का एक प्रतिनिधिमंडल राज्य के शिक्षा मंत्री से मिलकर अपनी बातों को उनके समछ रखते हुए इस मुद्दों पर कारवाई की मांग करेगा। बैठक में अभिजीत दत्ता, महेंद्र ठाकुर, शिव कुमार सिन्हा, मनोज मल्लिक, संजीत राम, देवानंद राय, राकेश कुमार, अजित सिंह सहित अन्य शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here